जन्मदिन विशेष- पद्मश्री अमिताभ बच्चन

अमिताभ बच्चन (जन्म-11 अक्टूबर, 1942) बॉलीवुड के सबसे लोकप्रिय अभिनेता हैं। उनका वास्तविक नाम ” इन्किलाब श्रीवास्तव” हैं।
अमित जी प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार हरिवंश राय बच्चन के सुपुत्र हैं।
1970 के दशक के दौरान उन्होंने बड़ी लोकप्रियता प्राप्त की और तब से भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे प्रमुख व्यक्तित्व बन गए हैं। उनकी लम्बाई 6 फुट 1 इंच एवम वजन 80 किलोग्राम हैं।

अमिताभ ने अपने करियर में अनेक पुरस्कार जीते हैं, जिनमें दादासाहेब फाल्के पुरस्कार, तीन राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार और बारह फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार सम्मिलित हैं।उनके नाम सर्वाधिक सर्वश्रेष्ठ अभिनेता फ़िल्मफेयर अवार्ड का रिकार्ड है। अभिनय के अलावा बच्चन ने पार्श्वगायक, फ़िल्म निर्माता, टीवी प्रस्तोता और भारतीय संसद के एक निर्वाचित सदस्य के रूप में 1984 से 1977 तक भूमिका निभाई हैं।

अमिताभ बच्चन अपना  77वां जन्मदिन मना  रहे हैं। उनका जन्म 11 अक्टूबर, 1942 को जन्म इलाहाबाद में हुआ।अमिताभ बच्चन इंजीनियर बनना चाहते थे और एयरफोर्स में जाना उनका ख्वाब था। अमिताभ बच्चन को उनकी भारी-भरकम आवाज के लिए पहचाना जाता है, लेकिन ऑल इंडिया रेडियो ने उनकी आवाज को रिजेक्ट कर दिया था। यही नहीं, उन्होंने मृणाल सेन की ‘भुवन शोम (1969)’ और सत्यजीत रे की ‘शतरंज के खिलाड़ी (1977)’ में कहानी नैरेट की थी। बॉलीवुड में स्क्रीन पर एंग्री यंगमैन को लाने का श्रेय उन्हीं को जाता है और दिलचस्प बात यह है कि उन्हें ‘जंजीर’ के रूप में पहली हिट मिलने से पहले 12 असफल फिल्मों का मुंह देखना पड़ा था।

 

77 साल के “शहंशाह” की हुकूमत को 50 साल हो रहे हैं। शहंशाह बोले तो अमिताभ बच्चन। यह इत्तेफाक ही है कि जिस अक्टूबर माह में उन्का जन्म हुआ उसी महीने में 50 साल पहले उनकी पहली फिल्म “सात हिंदुस्तानी” भी रिलीज हुई थी।

पचास साल पहले वे फिल्मों में सहमे सकुचाए हुए आए थे। अमित जी को पूरे हुए पचास बरस सिल्वर स्क्रीन पर। इस दौरान दिलीप कुमार, देवानन्द और राजकपूर से लेकर सलमान खान, शाहरुख खान, आमिर खान और फिर रणवीर सिंह और रनबीर कपूर तक तीन पीढ़ियों को पर्दे पर अकेले अमिताभ से मुकाबला करना पड़ा। और वक्त अभी ठहरा नहीं हैं, लेकिन अमिताभ बच्चन में अब भी वही दमखम और उसी तरीके से चलते रहने का जज़्बा दिखाई देता है।

उल्लेखनीय हैं कि जय बच्चन से पूर्व बिग बी पहले एक महाराष्ट्रयन लड़की से प्यार करते थे। बिग बी उनसे शादी भी करना चाहते थे, लेकिन किसी वजह से दोनों की शादी नहीं हो पाई। रिपोर्ट्स के मुताबिक़ बाद में उस लड़की ने किसी और के साथ शादी कर ली थी।

अमिताभ बच्चन बॉलीवुड के सबसे पुराने और सीनियर एक्टर हैं। जिन्होंने अपनी ज़िन्दगी के 50 साल इंडस्ट्री को दिए हैं। अपने करियर के दौरान अमिताभ ने हर तरह की फ़िल्में की और दर्शकों को अपने अभिनय से दीवाना बनाया। अमिताभ बच्चन की फ़िल्में भारत के आलावा अन्य देशों में भी काफी जोश और उत्साह के साथ देखी जाती रही हैं।

 

अमिताभ बच्चन के करियर के शुरूआती साल काफी संघर्ष पूर्ण रहे थे उन्हें अपनी काबलियत दर्शाने के लिए थोड़ा समय लगा था। जंजीर फिल्म से अमिताभ बच्चन ने अपनी हिट फिल्मों का दौर शुरू किया था। इस फिल्म के हिट होने के बाद अमिताभ बच्चन ने लगातार कई हिट फ़िल्में दी जिनमें दीवार, शोले, नमक हराम जैसे सुपर डूपर हिट फ़िल्में हैं। अमिताभ बच्चन की सभी पुरानी फिल्मों ने रिकॉर्ड तोड़ कमाई की है।

हिट फिल्मों को दैर में आलम ये हुआ कि जब 40 फिट ऊंचे पर्दे पर अमिताभ बच्चन कोई डायलाग बोलते तो सिनेमा हाल में बैठे दर्शक खुद को अमिताभ मान कर तालियां बजाते और फिल्म खत्म होने पर जीत का एहसास लिए सिनेमा हाल से बाहर निकलते। ऐसी कामियाबी भला किसके नसीब में आती है। हांलाकि जंजीर, दीवार, हेरी फेरी, डान, शोले, नसीब, मुकद्दर का सिकंदर, अमर अकबर एंथोनी, शक्ति और शान जैसी फिल्मों के दौर में अमिताभ ने अभिमान, मिली और अलाप जैसी फिल्में भी कीं ।

एंग्री यंग में वाली इन फिल्मों में गुस्से की आग से धधकते अमिताभ की जगह एक ऐसे अमिताभ से सामना होता है जो आम इंसानों की तरह है। आमिताभ का यह रूप भी लोगों को पसंद था वरना कभी कभी और सिलसिला जैसी फिल्मों को अमिताभ कैसे यादगार बना देते। फिर भी फिल्म दुनिया की भेड़ चाल मिताभ से एक ही तरह की फिल्में करवाती चली गई।

इसका जो अंजाम होना था वही हुआ नब्बे के दश्क में अमिताभ की फिल्में फ्लॉफ होनी शुरू हुईं। एक दो नहीं बल्कि कई फिल्में। मान लिया गया कि अमिताभ का युग समाप्त हो चुका है, लेकिन फिर कहना पड़ेगा अमिताभ में कुछ तो था जो फिर मुख्यधारा के सिनेमा में शान के साथ वापसी की। दरअसल अमिताभ सिर्फ यूं ही अमिताभ नहीं बने अमिताभ फिल्मों के भीतर घुस जाते हैं, उसकी स्क्रिप्ट और यहां तक की कैमरे से क्या नजर आ रहा है यह भी समझते हैं। उनकी इस काबलियत को पहले के मुकाबले इस दौर के निर्देशक ज्यादा तरजीह दे रहे हैं और उसके नतीजे भी सामने आ रहे हैं।

अपने पिता की कविताओं को ही नहीं बल्कि दूसरे साहित्यकारों को भी पढ़ने और जानने वाले अमिताभ को पता है कि लोगों को उनकी एंग्री मैन की छवि भाती थी। इसलिए अमिताभ एंग्री मैन की छवि का दामन तो नहीं छोड़ सके लेकिन अंदाज बदल दिया। गुस्सैल इंसान की उनकी छवि बाग़बान में भी है, अक्स में भी है और सरकार में तो यह छवि इस तरह उभरी की राम गोपाल वर्मा ने उसके दो सीक्वल ही बना डाले। फिर भी अमिताभ चाहते थे कि उनके अभिनय के जो और रंग हैं उन्हें भी सामने ला सकें। उन्हें जैसे ही मौके मिले उनकी फिल्मों ने लोगों को हैरत में डाल दिया कि अरे अमिताभ तो ऐसा भी कर सकते हैं।

इसी कड़ी में पीकू भी आती है, भूतनाथ भी आती है, ब्लैक भी आती है और 102 नाटआउट भी आती है। उनकी इस दौर की फिल्मों पर ध्यान दें तो पाएंगे कि अमिताभ बच्चन जब सिल्वर स्क्रीन पर उभरते हैं तो उनके इर्द गिर्द का ताना बाना अपने आप इस तरीके सामने आता है कि लगता है अमिताभ बच्चन कुछ नई परिस्थितियों को नए तरीके से सामने लाने की कोशिश कर रहे हैं।

उपलब्ध जानकारी के अनुसार अमिताभ बच्‍चन के पास 3.4 करोड़ रुपए मूल्‍य की घडि़यां जबकि जया के पास 51 लाख रुपए की घडि़यां हैं। अमिताभ के पास 9 लाख रुपए मूल्‍य के पेन हैं। फ्रांस में 3175 वर्ग मीटर का रिहायशी प्‍लॉट भी अमिताभ के पास है। बिग बी के पास नोएडा, भोपाल, पुणे, अहमदाबाद और गांधीनगर में भी जमीन है। जया बच्‍चन के पास लखनऊ के काकोरी में 2.2 करोड़ रुपए मूल्‍य की 1.22 हेक्‍टेयर कृषि भूमि है। अमिताभ बच्‍चन के पास बाराबंकी जिले के दौलतपुर में 5.7 करोड़ रुपए मूल्‍य की 3 एकड़ जमीन है।अमिताभ बच्‍चन ओर उनकी जीवन संगिनी के पास 62 करोड़ रुपए के स्‍वर्ण आभूषण हैं। इसमें रोचक बात यह है कि अमिताभ बच्‍चन के पास 36 करोड़ जबकि जया बच्‍चन के पास 26 करोड़ रुपए के स्‍वर्ण आभूषण हैं। अमिताभ बच्‍चन के पास 12 वाहन हैं, जिनकी कुल कीमत 13 करोड़ रुपए है। इनमें एक रोल्‍स रॉय, तीन मर्सिडीज, एक पोर्श और एक रेंज रोवर शामिल है। अमिताभ बच्‍चन के पास एक टाटा नैनो कार और एक ट्रैक्‍टर भी है।

अमिताभ और जया के दुनिया के कई देशों में बैंक अकाउंट हैं। जया और अमिताभ के लंदन, दुबई और पेरिस में बैंक खाते हैं। देश-विदेश मिलाकर बच्चन फैमिली के कुल 19 बैंक खाते हैं। इनमें से चार खाते जया बच्चन के नाम पर है। इन खातों में 6.84 करोड़ रुपए जमा हैं। देश से बाहर जया बच्चन का केवल एक खाता है जिसमें 6 करोड 59 लाख रुपए जमा हैं। अमिताभ बच्चन के 15 बैंक खातों में 47.47 करोड़ रुपए से ज्यादा का फिक्स डिपॉजिट और पैसा जमा है। बिग बी का पैसा और एफडी दिल्ली-मुंबई के अलावा बैंक ऑफ इंडिया की पेरिस शाखा, बैंक ऑफ इंडिया की लंदन शाखा और बीएनपी फ्रांस में जमा है।

अमिताभ बच्चन की फिल्मों के किरदार गब्बर , शहंशाह आज तक लोगों के मुँह से सुनने को मिलते हैं। इसके अलावा अमिताभ बच्चन के कभी न भुलाये जाने वाले डायलॉग जैसे रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं, मेरे पास माँ है आज भी सुनने को मिलते हैं और लोग अपनी रोजमर्रा की ज़िन्दगी में इन डायलॉग को एक दूसरे के साथ शेयर करते हैं।

ये हैं अमिताभ जी के 10 सबसे लोकप्रिय डायलॉग्स

पूरा नाम, विजय दीनानाथ चौहान, बाप का नाम, दीनानाथ चौहान, मां का नाम सुहासिनी चौहान, गांव मांडवा, उमर छत्तीस साल. (अग्निपथ)

हम जहां खड़े हो जाते हैं, लाइन वहीं से शुरू होती है. (कालिया)

आज मेरे पास बंगला है, गाड़ी है, बैंक बैलेंस है, क्या है तुम्हारे पास? (दीवार)

आई कैन टॉक इंग्लिश, आई कैन वॉक इंग्लिश, आई कैन लॉफ इंग्लिश बिकॉज इंग्लिश इज अ वेरी फन्नी लैंग्वेज. भैरों बिकम्स बायरन बिकॉज देयर माइंड्स और वैरी नैरो. (नमकहलाल)

रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं, नाम है शहंशाह. (शहंशाह)

मूंछें हो तो नत्थूलाल जैसी वर्ना न हो. (शराबी)

डॉन को पकड़ना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है. (डॉन)

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है – कि जिंदगी तेरी जुल्फों की नर्म छांव में गुजारनी पड़ती तो शादाब हो भी सकती थी. (कभी कभी)

हिंदी फिल्मों में अमिताभ बच्चन के अमिट योगदान के लिए उन्होंने कई नेशनल और फिल्मफेयर अवार्ड मिले। 1991 में अमिताभ बच्चन को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा गया और साल 2000 में उन्हें सुपरस्टार ऑफ़ मिललेनियम से सम्मानित किया गया था।

पिछले कई सालों से हमने अमिताभ बच्चन के भिन्न भिन्न किरदार देखे हैं। अमिताभ बच्चन फिल्मों के अलावा पिछले कई सालों से सोनी टीवी के प्रसिद्ध रियलिटी शो कौन बनेगा करोड़पति को होस्ट कर रहे हैं। अमिताभ बच्चन पर काफी किताबे लिखी जा चुकी हैं। अमिताभ बच्चन की फिल्मों ने हिंदुस्तान को विदेशों में एक नई पहचान दिलाई है।

स्वर्गीय विनोद खन्ना और अमिताभ बच्चन ने साथ में कई यादगार फिल्में की हैं. जैसे – ‘हेरा फेरी’ (1976), ‘ख़ून पसीना’ (1977), ‘अमर अकबर एंथनी’ (1977), ‘परवरिश’ (1977) और ‘मुकद्दर का सिकंदर’ (1978)।
✍🏻✍🏻🌷🌷👉🏻👉🏻
डबल रोल (दोहरी भूमिका) वाली मुख्य फिल्में —
हिन्दी सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन आज सिनेमा के लिए जानी मानी शख्सियत है। अमिताभ ने अपने करियर में कई ऐसी फिल्में की हैं जिनको दर्शक बॉलीवुड में कभी भूल नहीं सकते। अपनी दमदार आवाज और धमाल भरी एक्टिंग से आज भी अमिताभ देश विदेश के लोगों के दिलों पर राज कर रहें है।
आज उनके जन्मदिन जानिए अमिताभ की उन फिल्मों के बारे में जिनमें उन्होंने डबल रोल किया है।
डॉन—
यह फिल्म अमिताभ बच्चन की सबसे अधिक सुपरहिट फिल्मों में से एक है। अमिताभ बच्चन ने इस फिल्म में डबल रोल किया था। जहां फिल्म में अमिताभ एक रोल में डॉन दिखे तो वहीं दूसरे रोल में देहाती का रोल कर रहे थे।

सत्ते पे सत्ता—
सुपरहिट फिल्म सत्ते पे सत्ता फिल्म में अमिताभ बच्चन ने दोहरी भूमिका निभाई थी। जहां एक भूमिका में वे आम कारोबारी के रोल में थे और दूसरी में उन्होंने नेगेटिव किरदार निभाया था।

आखिरी रास्ता—
अमिताभ ने 1986 में आई फिल्म आखिरी रास्ता में दोहरी भूमिका निभाई थी। इस फिल्म में अमिताभ के अलावा श्री देवी, जयाप्रदा, ओम शिवपुरी, अनुपम खेर, सदाशिव अमरापुरकर और दलीप ताहिल जैसे अभिनेता थे।

लाल बादशाह–
इस फिल्म में अमिताभ ने शिल्पा शेट्टी के साथा काम किया था। अमिताभ के दोनों रोल काफी दमदार थे। इस फिल्म में भी उनकी एक्टिंग ने लोगों को अपना दीवाना बना लिया था।

बड़े मियां छोटे मियां–
यह फिल्म एक्शन और कॉमेडी से भरपूर थी। यह फिल्म भी अमिताभ बच्चन के करियर की सुपरहिट फिल्मों में से एक है। फिल्म में अमिताभ एक रोल में पुलिस वाले तो दूसरे रोल में मवाली बने थे। उनके साथ फिल्म में गोविंदा थे।

देश प्रेमी—
1982 में आई फिल्म देश प्रेमी को देश के लोगों का खासा प्यार मिला। फिल्म में अमिताभ बच्चन क्रांतिकारी की भूमिका में थे।

अदालत—
इस फिल्म अदालत में अमिताभ ने डबल रोल निभाया था। जिसमें उन्होंने एंग्री यंग मैन की छवि का किरदार निभा कर फिल्म सुपरहीट हुई।

सूर्यवंशम–
हाल के दिनों में सबसे अधिक चर्चित फिल्मों में से एक है सूर्यवंशम। यह फिल्म एक परिवारिक फिल्म है जिसे दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया गया। फिल्म में अमिताभ ने पिता-पुत्र का डबल रोल निभाया था।

कसमें वादे—
इस फिल्म में अमिताभ ने एक रोल में गैंगस्टर और दूसरे में आम इंसान का किरदार निभाया था। 1978 में आई फिल्म कसमें वादे में का एक्शन काफी जोरदार था।

तूफान–1989 में आई फिल्म तूफान में अमिताभ एक बार फिर से देसी रॉबिन हुड के किरदार में नजर आए थे। फिल्म में अमिताभ के जादूगर किरदार को काफी सराहा गया था।
✍🏻✍🏻🌷🌷👉🏻👉🏻
इन फिल्मों में निभाए अलग अलग किरदार–

एंग्री यंगमैन वाला रोल–

अमिताभ बच्चन की फिल्म जंजीर 1973 में रिलीज हुई थी। यह उस समय कि बेहतरीन फिल्म रही। फिल्म जंजीर से ही बॉलीवुड में एक्टर अमिताभ की एक एंग्री यंगमैन वाली पहचान बनी। इस फिल्म में वह भ्रष्ट सिस्टम से त्रस्त आम आदमी की खीज उसके लड़ने की क्षमता को दिखाते दिखे।

‘मुकद्दर का सिकंदर’, ‘नमक हराम’, ‘शराबी’, ‘लावारिस’ और ‘जादूगर’ जैसी फिल्मों के निर्देशक प्रकाश मेहरा ने ही अमिताभ बच्चन को सुपरस्टार बनाया था। प्रकाश मेहरा की फिल्म ‘जंजीर’ ने अमिताभ बच्चन को देश का सबसे बड़ा स्टार बना दिया था। यह फिल्म 11 मई साल 1973 को रिलीज हुई थी। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन के साथ जया बच्चन भी लीड रोल में थीं। आपको बता दें, अमिताभ से पहले चार सुपरस्टार ने यह फिल्म ठुकरा दी थीं।

विलेन का किरदार—
1975 में रिलीज हुई फिल्म शोले की आज भी दर्शकों के पसंदीदा फिल्मों में एक है। इस फिल्म में अमिताभ का रोल एक जय नाम के बदमाश का था। वहीं इनके दोस्त वीरू के किरदार में धर्मेंद थे। फिल्म में जय और वीरू की दोस्ती इतनी गहरी थी लोग आज भी दोस्ती में इसकी मिसाल देते हैं।

रॉबिन हुड की भूमिका—
अमिताभ की फिल्म शहंशाह भी इनके स्पेशल कैरेक्टर वाली फिल्मों में है। यह फिल्म 1988 में रिलीज हुई थी। इसमें अमिताभ का रोल एकदम रॉबिन हुड जैसा था। यह फिल्म भी सुपरहिट हुई थी। इस फिल्म में अमिताभ का डॉयलाग रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप होते हैं..काफी पॉपुलर हुआ।
स्ट्रिक्ट टीचर का रोल—

अमिताभ बच्चन की फिल्म ब्लैक भी इन्हीं फिल्मों का हिस्सा है। यह फिल्म 2005 में रिलीज हुई। इसमें अमिताभ एक स्ट्रिक्ट टीचर के रोल में दिखाई दिए। अमिताभ के साथ इस फिल्म में रानी मुखर्जी ने बेहतरीन काम किया है।

भूत का जबरदस्त किरदार—
अमिताभ बच्चन के स्पेशल रोल वाली फिल्मों में भूतनाथ फिल्म भी है। यह फिल्म 2008 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन ने एक भूत का रोल निभाया था। बच्चों के बीच यह फिल्म खूब पसंद की गई थी।

13 साल के बच्चे का रोल—
2009 में रिलीज फिल्म ‘पा’ में अमिताभ बच्चन ने औरो नाम के 13 साल के बच्चे का रोल है। यह बच्चा प्रोजेरिया नामक बीमारी होने की वजह से इतनी कम उम्र में बूढ़ा दिखने लगा था। अमिताभ ने इस रोल को बेहद अनूठे अंदाज से पेश कर समाज को इसकी सच्चाई से रूबरू कराया है।

वकील की भूमिका में—
अमिताभ बच्चन की फिल्म पिंक 2016 में रिलीज हुई। इस फिल्म में अमिताभ की जितनी तारीफ की जाए कम है। फिल्म में अमिताभ बच्चन बाईपोलर बीमारी से पीड़ित है। बावजूद इसके वह एक वकील के किरदार में लड़कियों का केस लड़ते हैं। इस रोल की खूब तारीफ हुई।

अमिताभ आगे और क्या क्या दिखाएंगे ये किसे पता। उनके प्रशंसक तो यही चाहते हैं कि अमिताभ लगातार काम करते रहें और अभिनय के नए अंदाज, जुदा रंग और अलग रास्ते बनाते रहें।पद्मश्री अमित जी को उनके 77वें जन्मदिन की ढ़ेरों बधाइयाँ ओर शुभकामनाएं।

-पंडित विशाल दयानंद शास्त्री, उज्जैन  903939006

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें